शनिवार, 5 जनवरी 2013

गज़ल




हथौड़ी और छेनी की टंकार
है संगीत उनके लिए
और हम हाथों मे जाम लिए
गज़ल सुनते हैं। 


4 टिप्‍पणियां:

NILESH MATHUR

यह ब्लॉग खोजें

www.hamarivani.com रफ़्तार