शनिवार, 25 अगस्त 2012

कोकराझार



कल फिर शहर बंद रहेगा
दंगों के विरोध मे
रैली और धरना होगा
कुछ खद्दरधारी भाषण देंगे
और फिर अगले दिन
जनजीवन सामान्य होगा,
यूँ ही
मृतकों के परिजन रोते रहेंगे
दंगे और विरोध प्रदर्शन होते रहेंगे,
यूँ ही
हमारी सरकार
कान मे रुई डालकर सोती रहेगी,
ना जाने कब
ये सरकार जागेगी
और शहर मे अमन चैन होगा,
ना जाने कब
दंगों का ये सिलसिला थमेगा,
ना जाने कब
ये आँसू थमेंगे  
और ये शहर फिर से हँसेगा,
ना जाने कब
ये काली रात बीतेगी
और एक नयी सुबह होगी,
ना जाने कब  .......    

5 टिप्‍पणियां:

  1. दंगे
    सरकार के चेहरे पर
    बदनुमा धब्बे होते हैं
    यह अलग बात है
    इन धब्बों से ही
    सरकार बनाने का सपना
    पूरा होता है।

    जवाब देंहटाएं
  2. कोकराझार के निवासी किस दहशत में जी रहे हैं, उस दर्द को बयां करती मार्मिक रचना..

    जवाब देंहटाएं
  3. jante hum sab hai...sunte hai aur bass sahanbhuti jata lete hain...yahi dukh hai kar kuch nahi patee.....marmik rachna

    जवाब देंहटाएं
  4. ना जाने कब
    ये काली रात बीतेगी
    और एक नयी सुबह होगी,
    ना जाने कब .......
    ...dange fasad karne waale kash yah baat samjh paate..
    bahut marmsparshi rachna ..aabhar!

    जवाब देंहटाएं
  5. ना जाने कब तक ....
    बहुत खूब !

    जवाब देंहटाएं

NILESH MATHUR

यह ब्लॉग खोजें

www.hamarivani.com रफ़्तार