सोमवार, 4 जून 2012

आज फिर से




आज फिर से
उठ रही है
सीने में दर्द की इक लहर,


आज फिर से
आँखें नम हो रही है
और दिल उदास है,


आज फिर से
माथे पर सलवटें है
और चेहरे पर विषाद है,


आज फिर से
मेरी भावनाओं से
खेला जा रहा है,


आज फिर से 
मेरे ज़ज्बातों को
कुचला जा रहा है,


आज फिर से
कोई सपना
टूट कर बिखरता जा रहा है,


आज फिर से
मैं खुद से दूर
हुए जा रहा हूँ,


आज फिर से..... 

12 टिप्‍पणियां:

  1. आज फिर से.... गहरी संवेदनाएं व्यक्त की है नीलेश भाई!

    जवाब देंहटाएं
  2. पहले भी ऐसा हुआ था...फिर सब ठीक हो गया, अब भी हो ही जायेगा...

    जवाब देंहटाएं
  3. सुंदर भाव संयोज समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    जवाब देंहटाएं
  4. यादो की अंतहीन अभिवयक्ति.....

    जवाब देंहटाएं
  5. ye kuch to hai jo khud ko khud se door le jaa raha hai ....
    par shaayad ye kisi aur ke kareeb bhi laa raha hai ..

    जवाब देंहटाएं
  6. apni yaadon ko bahut hi ghan ta ke saath v bahut hi sundarta ke saath abhivykt kiya hai aapne
    aabhaar
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  7. कठिनाइयों से लड़ना ही तो जीवन है ...
    ये जद्दोजहद तो चलती ही रहेगी ....बस शिद्दत से डटे रहना है ...!!!
    शुभकामनायें ...

    जवाब देंहटाएं
  8. टूटना और फिर खुद को सहज लेना ....ये ही जीवन हैं

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर भाव.........

    अनु

    जवाब देंहटाएं

NILESH MATHUR

यह ब्लॉग खोजें

www.hamarivani.com रफ़्तार