रविवार, 20 फ़रवरी 2011

चाँद के साथ

Photo by Debjani Tarafder
चाँद के साथ 
वो भी जाग रही थी 
रात भर
और भीग रहे थे 
चांदनी में 
उसके ज़ज्बात, 
चाँद पर लगे दाग
याद दिलाते थे उसे 
उसके जख्म 
जो ज़िन्दगी ने 
दिए थे, 
कभी जब चाँद 
बादलों में छुप जाता
तो व्याकुल 
हो उठती थी वो,
और उसकी 
नर्म नाज़ुक हथेलियाँ  
बादलों हो हटाने की
कोशिस में 
व्यर्थ ही आसमान की ओर
उठ जाती थी,
लेकिन 
निर्मम बादलों के झुण्ड
नहीं समझ पाते थे
उसकी भावनाओं को
और छुपा कर 
चाँद को 
हँसते थे उस पर,
लेकिन चाँद  
उसकी भावनाओं को 
समझ कर 
बादलों से लडता था
उसकी खातिर,
और दीदार करता था
अपने ही जैसे
धरती के इस चाँद का! 

21 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत भावपूर्ण रचना..बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (21-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत भावपूर्ण रचना| धन्यवाद|

    जवाब देंहटाएं
  4. भीग रहे थे चांदनी में उसके जज़्बात ...बहुत सुन्दर ....

    जवाब देंहटाएं
  5. तुझे चांद के बहाने देखूं...

    जवाब देंहटाएं
  6. नर्म नाज़ुक हथेलियाँ
    बादलों हो हटाने की
    कोशिस में
    व्यर्थ ही आसमान की ओर
    उठ जाती थी,
    अतिसुन्दर भावाव्यक्ति , बधाई

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह नीलेश जी,
    लुका छिपी को नया नजरिया दिया।

    जवाब देंहटाएं
  8. कोमल भावनाओं को खूबसूरत शब्दों के माध्यम से प्रस्तुत करती एक मासूम कविता !

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत भावपूर्ण रचना..बधाई स्वीकारें।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत भावपूर्ण रचना..बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  11. सुन्दर बिम्बों से पूर्ण रचना
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  12. चाँद की मजबूरिय तो चाँद ने पार कर लीं ... पर उनकी मजबूरियों को समझना आसान नहीं .... दो चाहते हुवे भी बाहर नहीं आ सकतीं ...

    जवाब देंहटाएं
  13. चाँद उसकी भावनाओं को समझकर लड़ पड़ता था बादलों से ...
    रात भर चाँद से बातें की उसने , चाँद ने भी तो अपना फ़र्ज़ निभाना था !
    बहुत सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत भावपूर्ण रचना..बधाई स्वीकारें।

    जवाब देंहटाएं

NILESH MATHUR

यह ब्लॉग खोजें

www.hamarivani.com रफ़्तार