Wednesday, April 7, 2010

कुछ लोग !

कुछ लोग
जो इंसान कहलाते हैं
उनसे गुज़ारिश है मेरी
कि मुझे इंसानियत का
पाठ पढाएं,
मुझे भी इंसान बनना है!

7 comments:

  1. मुझे भी इंसान बनना है!

    good
    bahut sundar

    wow !!!!!!!!!!


    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. लाजवाब पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  3. क्या बात कह दी साहब.. बहुत ही उम्दा!

    ReplyDelete
  4. kya baat hai...
    chhoti magar lajawab rachna....

    ReplyDelete
  5. नीलेश जी , कमाल कर दिया । अपने को इंसान समझने वाले ? नही समझेंगे । अपनी 1978 मे लिखी रचना याद आ गयी -
    हम एक इंसान हैं ।
    इसलिए परेशान हैं ।
    चूँकि आप गिद्ध हैं ।
    इसलिए प्रसिद्ध हैं ।

    ReplyDelete
  6. kam shabdo me bahut gehri baat kahi hai aapne... koi insaan banna to skiha sakta hume.. kaash!

    ReplyDelete

NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार