Monday, November 9, 2009

महात्मा गाँधी के नाम एक ख़त !


पूज्य बापू,

सादर प्रणाम, आशा ही नहीं हमें पूर्ण विश्वास है कि आप कुशलता से होंगे। हम सब भी यहाँ मजे में हैं। देश और समाज की स्थिति से आपको अवगत करवाने के लिए मैंने ये ख़त लिखना अपना कर्त्तव्य समझा। कुछ बातों के लिए हम आपसे माफ़ी चाहते हैं जैसे कि आपके बताए सत्य और अहिंसा के सिद्धांत में हमने कुछ परिवर्तन कर दिए हैं, इसे हमने बदल कर असत्य और हिंसा कर दिया है, और इसमें हमारे गांधीवादी राजनीतिज्ञों का बहुत बड़ा योगदान रहा है, वो हमें समय समय पर दिशाबोध कराते रहते हैं और हमारा मार्गदर्शन करते रहते हैं। इन्हीं के मार्गदर्शन में हम असत्य और हिंसा के मार्ग पर निरंतर अग्रसर हैं, बाकी सब ठीक है।

आपने हमें जो आज़ादी दिलवाई उसका हम भरपूर फायदा उठ रहे हैं। भ्रस्टाचार अपने चरम पर है, बाकी सब ठीक है।
हर सरकारी विभाग में आपकी तस्वीर दीवारों पर टँगवा दी गयी है और सभी नोटों पर भी आपकी तस्वीर छपवा दी गयी है। इन्हीं नोटों का लेना-देना हम घूस के रूप में धड़ल्ले से कर रहे हैं, बाकी सब ठीक है। स्वराज्य मिलने के बाद भी भूखे नंगे आपको हर तरफ नज़र आएँगे, उनके लिए हम और हमारी सरकार कुछ भी नहीं कर रहे हैं, हमारी सरकार गरीबी मिटाने की जगह गरीबों को ही मिटाने की योजना बना रही है, बाकी सब ठीक है।

बापू हमें अफ़सोस है की खादी को हम आज तक नहीं अपना सके हैं, हम आज भी विदेशी वस्त्रों और विदेशी वस्तुओं को ही प्राथमिकता देते हैं, बाकी सब ठीक है।

अस्पृश्यता आज भी उसी तरह कायम है। जिन दलितों का आप उत्थान करना चाहते थे, उनकी आज भी कमोबेश वही स्थिति है, बाकी सब ठीक है।

बापू आजकल हम सत्याग्रह नहीं करते, हमने विरोध जताने के नए तरीके इजाद किये हैं। आज कल हम विरोध स्वरुप बंद का आयोजन करते हैं और उग्र प्रदर्शन करते हैं, जिसमें कि तोड़फोड़ और आगज़नी की जाती है, बाकी सब ठीक है।
जिस पाकिस्तान की भलाई के लिए आपने अनशन किये थे, वही पाकिस्तान आज हमें आँख दिखाता है, आधा काश्मीर तो उसने पहले ही हड़प लिया था, अब उसे पूरा काश्मीर चाहिए। आतंकियों की वो भरपूर मदद कर रहा है। हमारे देश में वो आतंक का नंगा नाच कर रहा है। आये दिन बम के धमाके हो रहे हैं और हजारों बेगुनाह फिजूल में अपनी जान गँवा रहे हैं, बाकी सब ठीक है।

बांग्लादेश के साथ भी हम पूरी उदारता से पेश आ रहे हैं, वहां के नागरिकों को हमने अपने देश में आने और रहने की पूरी आज़ादी दे रखी है, करोड़ों की संख्या में वे लोग यहाँ आकर मजे में रह रहे हैं, और हमारे ही लोग उनकी वजह से भूखे मर रहे हैं, बाकी सब ठीक है।

बापू हम साम्प्रदायिक भाईचारा आज तक भी कायम नहीं कर पाए हैं। धर्म के नाम पर हम आये दिन खून बहाते हैं। आज हमारे देश में धर्म के नाम पर वोटों की राजनीति खूब चल रही है। साम्प्रदायिक हिंसा आज तक जारी है। बाकी सब ठीक है।

बापू आज आप साक्षात यहाँ होते तो आपको खून के आंसू रोना पड़ता, बापू आपने नाहक ही इतना कष्ट सहा और हमें आज़ादी दिलवाई, हो सके तो हमें माफ़ करना।

आपका अपना-
एक गैर जिम्मेदार भारतीय नागरिक

Saturday, November 7, 2009

आस्था

कुछ लोग मुसीबत में पड़ने पर ही ईश्वर को याद करते हैं उनके लिए ....

जब हताश हो उठता है मन
तो बेजान पत्थरों में
नज़र आती है उम्मीद कि किरण
और फिर पूजने लगते हैं
पत्थरों को देवता बनाकर!

Friday, October 23, 2009

गंगा स्नान

हरिद्वार में हर कि पौडी पर बैठा था तो कुछ इस तरह के विचार मन में आये थे !
(१)
गंगा में डुबकी लगाई
पापों से मुक्ति पायी ,
फिर शुरू होंगे
नए सिरे से
अनवरत पाप!

(२)
हर कि पौडी
हर लेती हर पाप
और हम
फिर से तरोताजा
और पाप करने को !

Tuesday, October 20, 2009

यूँ ही एक दिन !

यूँ ही एक दिन 
चल दूंगा 
अलविदा कहकर तुम्हें ,
पर तुम निराश ना होना 
मेरे होने ना होने से 
क्या फर्क पड़ता है ,
सब कुछ यूँ ही चलता रहेगा 
यूँ ही मेरी तस्वीर 
दीवार पर टंगी होगी
फर्क सिर्फ इतना होगा 
कि इस पर 
नकली फूलों कि माला चढी होगी ,
यूँ ही घर कि घंटी बजेगी
कोई आएगा सहानुभूति दिखाएगा
यूँ ही बनिए की दुकान से 
बाकी में राशन आएगा 
और खाना पकेगा ,
तुम निराश ना होना 
सब कुछ यूँ ही चलता रहेगा
सिर्फ मैं ही तो नहीं रहूँगा ,
मेरे होने ना होने से
क्या फर्क पड़ता है!

Monday, October 19, 2009

दीपावली

रौशनी के सारे सौदागर
दिए जलेंगे आज
अंधेरों से लड़ते हुए
 रौशनी में नहाएँगे आज ,
पर कुछ लोग
अपनी खिड़कियाँ
बंद कर लेंगे
इन्हें रौशनी में नहाते देख
और खो जाएँगे अपने
अँधेरे साम्राज्य में आज ,
रौशनी के सारे सौदागर
दिए जलाएँगे आज!

Sunday, October 18, 2009

शब्द

हर बात
शब्दों में बयां नहीं होती
कुछ दर्द
शब्दों से परे होता हैं
कुछ खुशियाँ भी
शब्दों में नहीं समाती
शब्द तो सिर्फ माध्यम है
रोज़मर्रा कि बातें कहने का!

Saturday, October 17, 2009

मेरी पहली कविता

झरोखे से देख रह हूँ 

मेरे जीवन में 

खुशियों कि बहार आ रही है 

असमंजस में है मन 

कि द्वार खोल स्वागत करूँ 

या लौटा दूँ इसे 

हवाओं का रुख ले आया है जिसे 

गलती से मेरी जिंदगी में!

मेरा शहर "बीकानेर"(छोटी काशी)

मैं अपने बारे में तो बता चुका, अब मैं अपने शहर जहाँ मैं पला बढा और जो मेरी खुशियों और दुखों का साक्षी रहा है के बारे में थोडा बहुत बता देता हूँ, बीकानेर जिसे कि लोग छोटी काशी भी कहते हैं क्योकि वहां कि गलियां और पुरानी इमारतें और वहां के मस्तमौला लोग मिलते जुलते ही हैं, लगभा ५०० साल पुराना है ये शहर और यहाँ के किले परकोटे साक्षी हैं इसके गर्वीले  इतिहास के, शहर के बीचोबीच यहाँ का किला जूनागढ़ सीना ताने खडा है और परकोटे के अन्दर कि पुरानी हवेलियों कि बेजोड़ कारीगरी तो देखते ही बनती है, पुराने शहर में ब्राह्मणों कि बहुतायत है वैसे तो सभी जातियों के लोग हैं यहाँ पर मुसलमान भी काफी संख्या में है, लेकिन हिन्दू मुस्लिम सभी आपस में बहुत ही भाईचारे के साथ रहते हैं, पुरे हिंदुस्तान में इतने साम्प्रदायिक दंगे हुए बाबरी मस्जिद प्रकरण हुआ लेकिन यहाँ पर उसका कोई असर नहीं हुआ, यहाँ हिन्दू और मुस्लिम आज भी एक थाली में खाते हैं और एक साथ मिलकर सभी त्यौहार मनाते हैं, शाम होते होते यहाँ कि फिजा में मस्ती सी छाने लगती है, शहर में छोटे छोटे चौक हैं और हर चौक में पाटे लगे हुए हैं, जिन पर शाम होते ही लोग जमा हो जाते हैं और फिर गपशप और मौज मस्ती कि दौर चालू हो जाते हैं, एक तरफ कहीं भांग घुट रही होती है, यहाँ के लोग भांग के काफी शौकीन हैं, यहाँ खाने पीने के भी बहुत मजे हैं, मलाई रबड़ी पकौडे मिठाइयां तरह तरह कि चीजें मिलती है कुछ खाने पीने कि दुकाने तो रात १० बजे के बाद खुलती है, वैसे तो सारी दुकाने १२ से १ बजे तक खुली ही रहती हैं, कवि सन्मेलन  और मुशायरे भी यहाँ होते रहते हैं, यहाँ कि भूमि ने बहुत से साहित्यकारों को जन्म दिया है, यादवेन्द्र शर्मा'चन्द्र', हरीश भादाणी और भी कई साहित्यकारों कि जन्मभूमि है ये, और इन सभी के साथ हमारे पारिवारिक सम्बन्ध रहे हैं और इनका आर्शीवाद भी मुझे हमेशा मिलता रहा है, यहाँ के लोग एक दुसरे कि मदद के लिए बहुत उतावले रहते हैं, इन दिनों ये शहर आधुनिकता कि ओर अग्रसर है यहाँ कई बड़े माल और होटल खुल चुके हैं, कुल मिला कर एक बहुत ही शांत और मौज मस्ती वाला शहर है ये, अगर कभी मौका मिले तो एक बार ज़रूर यहाँ जाना चाहिए!

Friday, October 16, 2009

जीवन एक संघर्ष

जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ा , जीवन से और यहाँ तक की ख़ुद से भी संघर्ष करता रहा हूँ , परिस्थितिवश या अपनी कमजोरी से मैं अपने आप में इतने बदलाव ले आया हूँ की कभी कभी तो ख़ुद को ही नही पहचान पाता, कुछ बदलाव तो मजबूरीवश लेन पड़े और कुछ अपनी कमजोरीवश, लेकिन मैं कभी नही चाहता था की मैं ऐसा बनू जो मैं आज हूँ! सारांश में कुछ पंक्तियाँ लिख रहा हूँ जो की मैंने तब लिखी थी जब मैं अपने सिद्वांत , ईमानदारी, सच्चाई और अपने ज़मीर से थक चुका था.....
पिता जी ने कहा था
बेटा,सत्य के मार्ग पर चलना
मैं चला,
पर फिसलन बहुत थी वहां
घुटने छिल गए,
गिर कर फिर उठा
और चल पड़ा उस मार्ग पर
जो खुरदरा तो था
पर वहां फिसलन नहीं थी !
जवानी के वो सुनहरे दिन जब पलकों में सपने पलते हैं, मैं चल पड़ा था अपनों से, अपने प्यारे शहर से और अपने अज़ीज़ दोस्तों से दूर एक अजनबी शहर की तरफ़ जहाँ कोई किसी का नही था, हर रिश्ता किसी न किसी स्वार्थ का था, शुरू में अक्सर मैं अकेले में रोया करता था, दोस्तों के ख़त मिला करते थे तो खुशी से आँखें भर आती थी, वो साल था सन् १९९२ का जब मैं बीकानेर से गुवाहाटी आया,  गुवाहाटी में एक समय ऐसा भी आया था जब खाने के लिए जेब में पैसे नही होते थे, और वो ऐसा समय था जब मेरी माँ और पिता जी पूछा करते थे की बेटा काम कैसा चल रहा है और मैं हमेशा कहा करता था की बहुत अच्छा चल रहा है, शायद वो सोचते होंगे की इसका काम तो अच्छा चल रह है लेकिन हमें तो आज तक एक रूपया भी नही भेजा, हालाँकि हमारा वहां भी अच्छा खासा काम है सो मेरे भेजने न भेजने से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता था पर मैं अपनी स्थिति बता कर उन्हें तकलीफ पहुचाना नही चाहता था, संघर्ष तो जारी है लेकिन आज स्तिथि कुछ ठीक है, सन २००० में शादी हुई और आज दो बच्चे मेघा और राघव के साथ खुश हूँ, लेकिन खुद के जीवन से संतुष्ट नहीं हूँ, जैसी ज़िन्दगी मैं जीना चाहता था वो नहीं जी पाया, लेकिन फिर भी जो कुछ भी जीवन में मिला उसके लिए ईश्वर का धन्यवाद ! शेष फिर!

Sunday, October 11, 2009

एक नई सुरुआत

आज यहाँ पर अपनी भावनाएं लिखने और लोगों के साथ बांटने कि एक नई सुरुआत कर रहा हूँ , और चाहता हूँ कि लोग मुझे और मैं लोगों को समझूँ ! मैं इस धरती पर ज़मीं से जुदा हुआ एक अदना सो इंसान हूँ, लेकिन ज़रूरत से ज्यादा भावुक हूँ, छोटी सी बात पर रो पड़ता हूँ और खुश होने पर भी आँख से आंसू बहने लगते हैं, चाहता हूँ कि जीवन में किसी के दिल को मेरी वज़ह से ठेस न पहुचे, किसी को मेरी वज़ह से यदि ठेस पहुँची हो तो माफ़ी चाहता हूँ! चाहता हूँ कि मेरे घर परिवार दोस्त और हर ज़रूरतमंद के लिए कुछ करूँ, सभी को खुशियाँ बांटू , यही मेरे जीवन का लक्ष्य है! मेरे सपने भी ज्यादा बड़े नही है, बस सब का स्नेह जीवन में मिलता रहे, और हँसते खेलते जीवन रूपी यात्रा को पुरा करूँ!
NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार