Monday, August 16, 2010

रंग बिरंगे फूलों से लदी सड़क

श्री श्री के आशीर्वाद से जीवन में कुछ लोग मिले हैं जिनके सानिध्य और मार्गदर्शन से मेरे विचार और जीवन शैली में कुछ परिवर्तन सा आने लगा है, ज्योति का जिक्र तो मैं अपनी पिछली पोस्ट में कर चुका हूँ, आज मैं बात कर रहा हूँ आर्ट ऑफ़ लिविंग के शिक्षक परम आदरणीय श्री सुरेश स्वामी जी और श्री राणा दास की, ये दोनो ऐसे व्यक्ति हैं जिनके निस्वार्थ सेवा भाव से और उनके व्यक्तित्व से मैं बहुत प्रभावित हूँ, और मैं चाहता हूँ कि उनका स्नेह और मार्गदर्शन इसी तरह मुझे मिलता रहे,  ये काव्य पंक्तियाँ उन्ही के लिए लिखी है और उन्हें ही समर्पित हैं.......  



श्री सुरेश स्वामी, मैं  और  श्री राणा दास 
वो  मिले  थे  मुझे  
जीवन पथ पर 
चलते हुए,
और थाम कर मेरा हाथ 
उन्होंने मुझे 
जीवन के उस मोड़ पर 
पंहुचा दिया....


जहाँ से पीछे
कुछ नहीं दिखता 
लेकिन आगे.....
रंग बिरंगे फूलों से लदी 
सड़क दिखती है,


और मैं 
उनके प्रेम और स्नेह से
अभिभूत हो  
चल पड़ा हूँ
उसी फूलों से लदी सड़क पर,


और वो 
चेहरे पर मुस्कान लिए 
मुझे राह दिखाते  
चल रहे हैं मेरे साथ !

20 comments:

  1. कविता बहुत सुंदर है.... और आप तो बहुत ही स्मार्ट लग रहे हैं.... एकदम हैंडी से....

    ReplyDelete
  2. काश यूँ ही फूलों से युक्त सड़क पर आपका सफर जारी रहे

    ReplyDelete
  3. आपसे ऐसी सशक्त रचना की ही उम्मीद होती है.

    ReplyDelete
  4. बढ़िया है जी आगे बढते चलो.

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया ...यूँ ही फूल खिले रहें ..

    ReplyDelete
  6. सार्थक प्रस्तुति- साधुवाद!
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  7. जिंदगी ऐसा ही फूल का रास्ता बना रहे आपके लिए!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर सड़क है!

    ReplyDelete
  9. जीवन पथ फूलों -सा महकता रहे हमेशा ...!

    ReplyDelete
  10. aabne rah kee jyoti aise hath mai thamai hai ,jo kabhee apko andheron se mukhatib naheen hone denge. guru ke prati sundar ,dil chuu lene walee ,dil kee awaj ke liye dhanywad.

    ReplyDelete
  11. nilesh ji aap kismat waale hai jo aapko sahi raah dikhane waale lig mile varna gumraah karne waalo ki sakhya jyaada hai.
    aapko fuulo se bhare raaste mubaarak ho yahi hardik kamna hai
    poonam

    ReplyDelete
  12. कोई राह दिखने वाला हो तो रास्ता आसान हो जाता है ..काश सड़क फूलों से भरी रहे.
    बहुत सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  13. .
    At times we get to meet such wonderful folk. Lucky you !

    Best wishes. !
    .

    ReplyDelete
  14. रक्षाबंधन पर हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!
    बहुत बढ़िया लगा!

    ReplyDelete
  15. किधर लिए जा रहे हैं ये तो बताते निलेश जी .....
    किस मार्ग पर ....क्या उद्देश्य हैं ....?
    जीवन में हम किसी के काम आ जायें तो जीना सार्थक हो जाता hai .....!!

    ReplyDelete
  16. wow!!!! nilesh ji , looking beautiful!!! aap b or kavitaa bhi...word verification kese hathaau? ht nai raha...

    ReplyDelete
  17. शुक्र है कि आपको कोई मिल गया। बधाई।

    ReplyDelete
  18. Hum Jindagi bhar yehi chahyenge ki aap jo sadak se gujare woh sadak phoolo se bani hui ho. Aur uss rah mei hum aapke sath ho..to woh hamari Khushnasibi hongi....
    Bhagwan se hamari yehi dua hai, ki aap ke chehere ki muskan hamesh aise hi kayam rakhe (Gyanesh...)

    ReplyDelete

NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार