Monday, May 24, 2010

औरत अब प्रश्न करने लगी है ज़िन्दगी से!

दुखों को 
निशब्द पीते हुए
घुट घुट कर 
जीते हुए 
औरत अब प्रश्न करने लगी है
ज़िन्दगी से................
क्या इसी का नाम
ज़िन्दगी है?
अगर हाँ 
तो मौत क्या है?
ये प्रश्न सुन 
ज़िन्दगी निशब्द हो जाती है
और समाज के माथे पर
सलवटें उभर आती है,
और फिर वो कहता है......
किसने दिया औरत को ये हक
की वो ज़िन्दगी से 
इस तरह के प्रश्न करे,
और साथ ही घबरा जाता है वो
कि इस प्रश्न कि गूंज 
कोई तूफ़ान ना खड़ा कर दे,
बहुत चिंताजनक है ये 
कि औरत अब 
प्रश्न करने लगी है जिंदगी से!

23 comments:

  1. स्त्री के मन को पढ़ कर यूँ लिखना ...बहुत सटीक और सार्थक है....

    ReplyDelete
  2. सुंदर, सटीक और सधी हुई ।

    ReplyDelete
  3. मेरे पास शब्द नहीं हैं!!!!
    mathur ji aapki tareef ke liye...

    ReplyDelete
  4. अच्छी रचना शुरू से अंत तक प्रभावशाली ....///पिछले कुछ दिनों से गाँव गया हुआ था .....आपकी पिछली कुछ रचनाएं नहीं पढ़ पाया समय निकालकर पढता हूँ

    ReplyDelete
  5. बेहद सार्थक और करीबी रचना है.
    स्त्रियों को हक ही कहाँ है प्रश्न पूछने का

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया पोस्ट.

    ReplyDelete
  7. मन को छू जाने वाले भाव| स्त्री मन को करीब से जाना है आपने
    आशा

    ReplyDelete
  8. बहुत सटीक रचना!!

    ReplyDelete
  9. एगो औरत का दिल से सोचकर लिखा हुआ कबिता है... पुरुष मन से नारी बिचार… ई सवाल का कोनो जवाबो नहीं है समाज के पास…
    निलेश भाई, लाजवाब !!

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया पोस्ट!

    ReplyDelete
  11. वाह क्या रचना प्रस्तुत की आपने..सुंदर भावपूर्ण और लयबद्ध वाकी बहुत सुन्दर रचना है

    ReplyDelete
  12. प्रश्न करती औरत.....और माथे पर सलवटे डाले समाज कितना सार्थक और सजीव बिम्ब है.......नारी विमर्श की सशक्त रचना......श्रेष्ठ सृजन अनवरत रखे बन्धु.........स्नेहयुक्त राजस्थानी राम-राम।

    ReplyDelete
  13. सुंदर भावपूर्ण और लयबद्ध रचना ।

    ReplyDelete
  14. अच्छी रचना है ... समाज को यदि सुधारना है तो औरत का हक दिलाना ज़रूरी है ...

    ReplyDelete
  15. bahut acchhi lagi ye rachna..

    kyu na kare prashn aurat zindgi se
    jab vo kar sakti hai prashn yamraz se to
    aakhir zindgi kya cheez hai????

    kya zindgi bhi purush pradhan samaz ki niwasi hai?


    apki is sateek rachna par badhayi.

    ReplyDelete
  16. ..और समाज के माथे पर
    सलवटें उभर आती है,
    और फिर वो कहता है......
    किसने दिया औरत को ये हक..
    ...सुंदर कटाक्ष.

    ReplyDelete
  17. दरअसल औरत भी एक इन्सान है और उसे सवाल करने का हक है |इस अर्थ को और विस्तार दिया जा सकता है कविता में ।

    ReplyDelete
  18. बहुत सटीक और सार्थक

    ReplyDelete
  19. शरद जी, आपके सुझाव पर मैं अवश्य गौर करूँगा!

    ReplyDelete
  20. nilesh li
    ek vicharoktejk rchna se aapne ru b ru kraya mai iske hi sndrbh me apni ek kvita blog pr dal rhi hu . aapke comment ki prtiksha rhegi .

    ReplyDelete

NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार