Sunday, July 10, 2011

मौन के साम्राज्य में


आओ चलें 
इस भीड़ से दूर कहीं
जहाँ मौन मुखरित हो
और शब्द निष्प्राण,
अपने चेहरे से
मुखौटे को उतार कर
अपने ह्रदय से पूछें 
कुछ अनुत्तरित प्रश्न,
झाड़ कर
वर्षों से जमी धूल
धुले हुए वस्त्र पहनें  
और बैठ कर
मौन के आगोश में
परम सत्य की
खोज करें,
आओ चलें
मौन के साम्राज्य में
जहाँ शब्दहीन ज्ञान 
प्रतीक्षारत है! 

20 comments:

  1. परम सत्य की
    खोज करें,
    आओ चलें
    मौन के साम्राज्य में
    जहाँ शब्दहीन ज्ञान
    प्रतीक्षारत है!
    यही तो हमें मुक्त करेगा ! बहुत सुंदर भावभीनी कविता !

    ReplyDelete
  2. मौन का साम्राज्य वैसे भी बहुत विस्तृत है .......आभार

    ReplyDelete
  3. आओ चलें
    मौन के साम्राज्य में
    जहाँ शब्दहीन ज्ञान
    प्रतीक्षारत है! ...kitna alaukik hoga n

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति

    मगर रंग को सुधारे

    ReplyDelete
  5. आओ चलें
    मौन के साम्राज्य में
    जहाँ शब्दहीन ज्ञान
    प्रतीक्षारत है!
    वाह ..मौन की सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. आओ चलें
    मौन के साम्राज्य में
    जहाँ शब्दहीन ज्ञान
    प्रतीक्षारत है!
    सुंदर अतिसुन्दर रचना , बधाई

    ReplyDelete
  7. अप्रतिम रचना है ...शब्द और भाव अनूठे हैं बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  8. simply beautiful..
    lovely projection of thoughts !!

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब ... मौन के स्वर हैं ...
    लाजवाब प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  10. वाह कितना सुन्दर लिखा है आपने, ..मौन की सुन्दर अभिव्यक्ति जवाब नहीं इस रचना का........ बहुत खूबसूरत....

    ReplyDelete
  11. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  12. वाह मौन को ख़ूबसूरती से पेश किया है.. मौन ही सबसे बड़ी जुबां है.. सबसे बड़ा गुण.. सच है...

    परवरिश पर आपके विचारों का इंतज़ार है..
    आभार

    ReplyDelete
  13. कहीं और भी पढ़ी है यह कविता ..बेहद खूबसूरत है.

    ReplyDelete
  14. वाह ... बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ।

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन प्रस्तुती....

    ReplyDelete
  16. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete

NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार