Saturday, January 21, 2012

वनवास



ध्यान, साधना, सत्संग 
से कोसों दूर
कंक्रीट के जंगल में
सांसारिक वासनाओं 
और अहंकार तले
आध्यात्म रहित वनवास
भोग रहा हूँ इन दिनों,
मैं फिर से लौट कर आऊँगा 
जानता हूँ की तुम मुझे 
माफ करोगे 
और सहर्ष स्वीकार भी करोगे। 











23 comments:

  1. बहुत खूब...
    अति सुन्दर..

    ReplyDelete
  2. प्रेरक और सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  3. alg tarh ki rachna....bahut hi acha likha aap ne....bdhai sweekaren....

    ReplyDelete
  4. बहुत उम्दा


    ये प्रकति अपने आने वालो का हर पल इंतज़ार करती हैं ....

    ReplyDelete
  5. आशा ही जीवन है ...
    शुभकामनायें भैया !

    ReplyDelete
  6. सच्ची अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  8. तथास्तु.
    आपकी इच्छा जरूर पूर्ण होगी निलेश जी.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा जी.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  10. ध्यान की याद बनी है तो भीतर ध्यान है ही...शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  11. कल 23/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  13. 'वह' कहाँ किसी को अस्वीकार करता है...
    सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  14. कर्मठ को सब स्वीकार करते हैं ..

    ReplyDelete
  15. सच्चे को कौन अस्वीकर करता है! बहुत अलग सी मगर सुंदर लघु कविता।

    ReplyDelete
  16. मैं फिर से लौट कर आऊँगा
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर रचना, बेहतरीन पोस्ट....अच्छी लगी

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर और सार्थक सृजन, बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" पर भी पधारकर अपना स्नेहाशीष प्रदान करें, आभारी होऊंगा.

    ReplyDelete
  19. हाँ कहते हैं कि वह बड़ा ही दयालु है.. ज़रूर वापस अपनी क्षत्र-छाया में ले लेगा सभी वनवासियों को..

    ReplyDelete
  20. इस कविता के माध्यम से कितनी ही सरलता और सौम्यता के साथ जो आपने सन्देश दिया है, वो बहुत ही प्रशंशनीय है...
    वटवृक्ष के लिंक से पहली बार आना हुआ.. बहुत धन्यवाद..

    ReplyDelete

NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार