Thursday, May 14, 2020

क्या कहा सच बोलूँ?


क्या कहा सच बोलूँ
या मन की आँखे खोलूँ?
क्या हँसी खेल है सच बोलना
जो मैं सच बोलूँ,
मैने भी
बोला था सच कभी
जो कुचला गया
झूठ के पैरों तले,
अब मैं
सच बोलने की
हिमाकत करता नहीं
और किसी से
सच बोलने को कहता नहीं।

1 comment:

  1. वाह!बहुत सुंदर अभिव्यक्ति आदरणीय सर.
    सादर

    ReplyDelete

NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार