Wednesday, November 10, 2010

मुक्तिदाता

मैं पथिक
एकांत पथ पर चला जा रहा था
हर तरफ
कोहरे का साम्राज्य,
एक दिन
पत्तों पर अपने ओसकण छोड़ कर
कोहरा हटा
और मुझे दिखी उस पथ की सुन्दरता
जिस पर मैं
अनमना सा चलता रहा था
दूर तक,
और उसी पथ पर
मेरे स्वागत में
मुस्कराते हुए खड़े थे
मेरे मुक्तिदाता!

8 comments:

  1. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  2. सच कहा ......... जब कोहरा हटता है तो मुक्तिदाता नजर आतें हैं . सुन्दर ........... अति सुन्दर .

    ReplyDelete
  3. कोहरा हटा
    और मुझे दिखी उस पथ की सुन्दरता
    जिस पर मैं
    अनमना सा चलता रहा था...

    ----

    अति सुन्दर .

    .

    ReplyDelete
  4. bahut badhiya...jab muktidaata aa jaate hain kohara chhat jaataa hai.

    ReplyDelete
  5. ...अति सुन्दर
    बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया .........माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  7. nilesh ji ,
    bahut hi yatharth prastuti.
    और मुझे दिखी उस पथ की सुन्दरता
    जिस पर मैं
    अनमना सा चलता रहा था
    दूर तक,
    और उसी पथ पर
    मेरे स्वागत में
    मुस्कराते हुए खड़े थे
    मेरे मुक्तिदाता
    bahut hi prabhav purn rachna---
    poonam

    ReplyDelete

NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार