Thursday, September 16, 2010

दर्द

बहुत गहराई से 
महसूस किया है 
मैंने दर्द को इन दिनों,

बहुत समय बाद 
खुलकर रोने का मौका 
मिला है इन दिनों,

कोई सह रहा है दुःख
किसी के लिए
कोई ढाए जा रहा है सितम 
किसी पर इन दिनों,

इस जिस्म से
रूह को जुदा कर सकूँ   
इतना साहस भी
नहीं बचा है मुझमे इन दिनों,

जिन्हें अपना समझता रहा 
उम्र भर 
वही कत्ल करने पर आमाद हैं मेरा 
इन दिनों,

किससे कहूँ 
हाले-दिल अपना  
मेरा खुदा भी मुझसे 
नाराज है शायद इन दिनों !



15 comments:

  1. किससे कहूँ
    हाले-दिल अपना
    मेरा खुदा भी मुझसे
    नाराज है शायद इन दिनों !


    -शानदार.बहुत उम्दा!

    ReplyDelete
  2. हम तो न हंस पातें, न रो पातें है ठीक से,
    बस अरमानों की भरमार है इन दिनों ..

    सुन्दर प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  3. किससे कहूँ
    हाले-दिल अपना
    मेरा खुदा भी मुझसे
    नाराज है शायद इन दिनों ...dard gahara hai...badhiya post.

    ReplyDelete
  4. कहाँ रहते हैं आज कल
    इन दिनों ?

    एहसासों को खूबसूरती से लिखा है ..

    ReplyDelete
  5. आप की रचना 17 सितम्बर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com


    आभार

    अनामिका

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर रचना है .
    आभार ....

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन भावों से सजी एक बेहतरीन नज़्म|
    ब्रह्माण्ड

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..............

    ReplyDelete
  9. अद्भुत रचना है ..............अति सुन्दर

    ReplyDelete
  10. दर्द के पंक से ही खुशी का कमल खिलता है, और बढ़ जाने दें दर्द को इन दिनों!

    ReplyDelete
  11. अक्सर ऐसा होता है। लेकिन ये दर्द ही तो हमारी निधि हैं, हमारी ताकत हैं । ये ही तो हमें जीवन संघर्ष करना सिखाते हैं ।

    ReplyDelete
  12. किससे कहूँ
    हाले-दिल अपना
    मेरा खुदा भी मुझसे
    नाराज है शायद इन दिनों !

    Sach aaj Insaan ke paas kisi ka haal poochhne ka wakt hi kahaa........
    Bahut sunder rachna

    ReplyDelete
  13. खुदा तो नाराज़ ही रहता है ।

    ReplyDelete
  14. एक दो ज़ख्म नहीं सारा बदन है छलनी
    दर्द बेचारा परेशां है, कहाँ से उठे

    भावनाएं ही मानवता की बुनियाद हैं. आपकी सुन्दर अभिव्यक्ति है.

    ReplyDelete
  15. दर्द की मार्मिक अभिव्यक्ति ....मगर यहीं तो आपके धैर्य की परीक्षा है नीलेश ! हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete

NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार