Thursday, April 3, 2014

क्षणिकाएँ



1.
गंगा में डुबकी लगाई
पापों से मुक्ति पायी ,
फिर शुरू होंगे
नए सिरे से अनवरत पाप!

2.
हर कि पौडी
हर लेती हर पाप
और हम
फिर से तरोताजा
और पाप करने को !

3.
खुदा की इबादत भी
कर के देख चुका मैं
पर मेरी दुश्वारियों की ज़िद
शुभानअल्लाह !

4.
जब हताश हो उठता है मन
तो बेजान पत्थरों में
नज़र आती है उम्मीद कि किरण
और फिर पूजने लगते हैं
पत्थरों को देवता बनाकर!


NILESH MATHUR

Search This Blog

www.hamarivani.com रफ़्तार